Krishi Sakhi Yojana 2024 : कृषि सखियों को सालाना 60 हजार से 80 हजार तक देगी सरकार, पीएम मोदी 30 हजार कृषि सखियों को करेंगे सम्मानित

Krishi Sakhi Yojana 2024 : किसानों की आय बढ़ाने के लिए सरकार की ओर से प्रयास जारी हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी 18 जून 2024 को वाराणसी में 30,000 से अधिक स्वयं सहायता समूहों को कृषि सखी के रूप में प्रमाण पत्र प्रदान करेंगे।

कृषि सखी के तहत सालाना 60 हजार से 80 हजार प्राप्त करने के लिए

यहाँ क्लिक करे

कृषि में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका और योगदान को स्वीकार करते हुए और ग्रामीण महिलाओं के कौशल को और बढ़ाने के लिए, कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय और ग्रामीण विकास मंत्रालय ने 30.08.2023 को एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए। कृषि सखी संचार कार्यक्रम (केएससीपी) इस एमओयू के तहत एक महत्वाकांक्षी पहल है।

कृषि सखी योजना क्या है ? (What is Krishi Sakhi Scheme?)

भारत सरकार ने कृषि क्षेत्र में सुधार करने एवं किसानों को बेहतर जीवन प्रदान करने के लिए कृषि सखी योजना की शुरुआत की है. ये एक सरकारी योजना है, जिसका उद्देश्य किसानों को तकनीकी ज्ञान और समर्थन प्रदान करना है. इस योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओ को कृषि से जुड़े विभिन्न कार्यों जैसे -मृदा परीक्षण, बीज प्रसंस्करण, जैविक खाद निर्माण, फसल संरक्षण और कटाई आदि के बारे में ट्रेनिंग दी जाएगी.

इस ट्रेनिंग के माध्यम से महिलाएं न केवल किसानों की मदद करेगी, बल्कि कृषि क्षेत्र में अच्छा ज्ञान लेकर उचित आय प्राप्त कर सकती है. ट्रेनिंग के बाद महिलाएं कृषि सखी गांवों में कृषि उद्यमी बन सकती हैं। जिससे वह अन्य किसानों को सलाह देकर या अपना खुद का कृषि उद्यम शुरू करके कमाई कर सकती हैं।

आपके बैंक खाते में ₹6000 आ गए, 100% प्रूफ के साथ

लाभार्थी सूची में नाम चेक करें

पीएम कृषि सखी योजना का उद्देश्य(Objective of the Krishi Sakhi Yojana)

क्या है ग्रामीण विकास मंत्रालय के सहयोग से चलाई जा रही कृषि सखी योजना पर कृषि मंत्री ने कहा कि इस योजना का उद्देश्य स्वयं सहायता समूहों की लगभग 90,000 महिलाओं को पैरा-विस्तार कर्मी कृषि श्रमिक के रूप में प्रशिक्षित करना है, ताकि वे किसानों की सहायता कर सकें . Krishi Sakhis Yojana 2024

कृषि सखियों को किस तरह का प्रशिक्षण दिया जा रहा है? (What kind of training is being given to Krishi Sakhis?)

कृषि सखी को 56 दिनों तक विभिन्न विस्तार सेवाओं पर निम्नलिखित मॉड्यूल पर प्रशिक्षित किया गया है:

भूमि तैयार करने से लेकर कटाई तक कृषि-पारिस्थितिक अभ्यास

किसान फील्ड स्कूल का आयोजन

बीज बैंक + स्थापना और प्रबंधन

मृदा स्वास्थ्य, मृदा और नमी संरक्षण अभ्यास

एकीकृत कृषि प्रणाली Krishi Sakhi Yojana 2024

पशुधन प्रबंधन की मूल बातें

जैव-इनपुट की तैयारी और उपयोग तथा जैव-इनपुट दुकानों की स्थापना

बुनियादी संचार कौशल

सरकार किसानों को 95% सब्सिडी पर 3HP, 5HP और 7.5HP के सोलर पंप दें रहीं है,

आज से नया ऑनलाईन आवेदन शुरु |

पीएम मोदी 30 हजार कृषि सखियों को करेंगे सम्मानित.(PM Modi will honor 30 thousand Krishi Sakhis.)

पीएम मोदी 18 जून को वाराणसी का दौरा करेंगे। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पीएम किसान सम्मान निधि योजना की 17वीं किस्त के तौर पर 20,000 करोड़ रुपये से अधिक की राशि पीएम किसान योजना से जुड़े 9.26 करोड़ किसानों के खातों में ट्रांसफर करेंगे। इसी कार्यक्रम में पीएम मोदी स्वयं सहायता समूहों की 30,000 से अधिक महिला सदस्यों को प्रमाण पत्र प्रदान करेंगे। कृषि सखी योजना के तहत इन स्वयं सहायता समूहों की सदस्यों को कृषि सखी के तौर पर प्रशिक्षित किया गया है। Krishi Sakhis Yojana 2024

इन राज्यों में शुरू की जाएगी कृषि सखी योजना

केंद्र सरकार का लक्ष्य है कि सरकारी योजनाओं के माध्यम से देश की तीन करोड़ महिलाओ को लखपति बनाना है, जिनमें से एक करोड़ महिलाएं इस लक्ष्य को हासिल कर चुकी है, बाकी की दो करोड़ महिलाएं को कृषि सखी योजना के माध्यम से सशक्त और स्वतंत्र बनाया जाएगा.

केंद्रीय मंत्री ने यह भी बताया कि कृषि सखी कार्यक्रम को चरण-1 में 12 राज्यों में शुरू किया गया है:

  • गुजरात
  • तमिलनाडु
  • उत्तर प्रदेश
  • मध्य प्रदेश
  • छत्तीसगढ़
  • कर्नाटक
  • महाराष्ट्र
  • राजस्थान
  • ओडिशा
  • झारखंड
  • आंध्र प्रदेश
  • मेघालय

गैस भरवाने की झंझट खत्म, इंडियन ऑयल दे रहा है फ्री में डबल बर्नर सोलर चूल्हा,

ऐसे करें आवेदन

कैसे काम करेगी ये योजना ?

कृषि सखी कार्यक्रम के अंतर्गत अब तक 34,000 से अधिक पैरा-एक्सटेंशन वर्कर के रूप में प्रमाणित किया गया हैं। इन कृषि पैरा-विस्तार कार्यकर्ताओं को गांव की ही वजह से चुना गया है, क्योंकि उन्हें खेती की अच्छी समझ है, इसलिए उन्हें अलग -अलग कृषि मैथड्स और व्यापक ट्रेनिंग दी जाती है, जिससे वे किसानों की मदद कर सकें. एक साल पहले, कृषि सखी प्रशिक्षण कार्यक्रम दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत शुरू किया गया था, जिसका उद्देश्य 70,000 कृषि सखियों को ट्रेनिंग देना था.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *